सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संघ का विधान देश का संविधान नहीं हो सकता: अजय कुमार लल्लू


लखनऊ : आरक्षण बचाओ मार्च का आयोजन आज प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  के नेतृत्व में परिवर्तन चैक से हजरतगंज स्थित बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर जी की प्रतिमा तक किया गया। आज के आरक्षण बचाओ मार्च में, ‘‘उत्तराखण्ड सरकार द्वारा 2019 में हाईकोर्ट में दायर की गयी रिट याचिका जिसमें हाईकोर्ट ने फैसला दिया था कि सार्वजनिक पदों पर नियुक्तियों या पदोन्नति में आरक्षण का दावा करने का कोई मौलिक अधिकार नहीं है आरक्षण प्रदान करने के लिए राज्य सरकार की ओर से कोई संवैधानिक कर्तव्य नहीं है जिसमें विगत 7 फरवरी 2020 को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा महेश कुमार बनाम उत्तराखण्ड राज्य के मामले में दिये गये निर्णय और भारतीय जनता पार्टी द्वारा न्यायालय के समक्ष दिये गये तर्क कि आरक्षण न तो मौलिक अधिकार है न ही संवैधानिक कर्तव्य’’ इसका कड़ा विरोध किया गया। जिसमंे हजारों की संख्या में कांग्रेस पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ नेतागण सम्मिलित रहे। मार्च में संविधान बचाओ-आरक्षण बचाओ, जय भीम-जय मंडल के नारे गूंजते रहे। कार्यक्रम के अन्त में महामहिम राज्यपाल जी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा गया।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी ने अम्बेडकर प्रतिमा पर धरने को सम्बोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारें सामाजिक न्याय और आरक्षण की मूल भावना पर लगातार हमला कर रही है। विगत वर्ष अनु0जाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में बदलाव की कोशिश की थी। उस समय पूरे देश में आरक्षण बचाओ आन्दोलन हुआ था और वर्तमान में उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अनु0जाति/जनजाति वर्ग के लिए प्रमोशन में आरक्षण खत्म करवाने तथा उ0प्र0 में उ0प्र0 लोक सेवा आयोग द्वारा अनु0जाति/जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को ओवरलैपिंग की सहूलियत केा खत्म करने की कोशिश की जा रही है। जिससे इन वर्गों के लाखों अभ्यर्थी प्रभावित होंगे। उ0प्र0 की भाजपा सरकार ने नियुक्तियों में आरक्षण का लगातार हनन किया है। भाजपा सरकार में दलित व पिछड़ों की सरकारी नौकरियों की संख्या 90 प्रतिशत कम हो गयी है यही नहीं दलित, पिछड़ा और आदिवासियों के लिए आरक्षित नौकरियों के बैकलाग को नहीं भरा जा रहा है। प्रि-मैट्रिक एससी/ओबीसी स्कालरशिप स्कीम व पोस्ट मैट्रिक एससी/ओबीसी स्कालरशिप स्कीम के बजट में भारी कटौती हुई है। एक तरफ सभी सरकारी संस्थानों में आउटसोर्सिंग पर नौकरियां दी जा
रही हैं दूसरी तरफ आरक्षण लागू नहीं किया जा रहा है, देश और प्रदेश की भाजपा सरकार इस मामले में चुप्पी मारकर बैठी है। कांग्रेस पार्टी को आरक्षण पर यह कुठाराघात बर्दाश्त नहीं है। बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर और बी0पी0 मंडल ने दलित, पिछड़े, आदिवासियेां के लिए जो अधिकार दिए थे उन्हें बचाने के लिए कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक आन्दोलन करेगी।
आरक्षण बचाओ मार्च में प्रमुख रूप से अनु0जाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष श्री पी0एल0 पुनिया सांसद, अ0भा0 कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रभारी उ0प्र0 श्री जुबेर खान, अनु0जाति विभाग के राष्टीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद श्री ब्रजलाल खाबरी, अनु0जाति विभाग के राष्टीय सचिव एवं उ0प्र0 प्रभारी श्री प्रदीप नरवाल, पूर्व विधायक श्री रामसजीवन निर्मल, पूर्व विधायक श्री राम जियावन, पूर्व विधायक बंशी पहाड़िया, पूर्व विधायक श्री श्यामकिशोर शुक्ल, पूर्व विधायक श्री अमिताभ अनिल दुबे, प्रदेश महासचिव एवं अनु0जाति के प्रभारी श्री आलोक प्रसाद पासी, महासचिव श्री मनोज यादव, श्री रमेश कुमार शुक्ल, श्री छोटेलाल चैरसिया, श्री संजय शर्मा, श्री गौरव चैधरी, श्री मुकेश सिंह चैहान, श्री प्रदीप कनौजिया, श्रीमती सिद्धिश्री, श्री के0के0 आनन्द, श्री मनोज पटेल, श्रीमती शमीना शफीक, श्रीमती ऊषा रानी कोरी, श्री तनुज पुनिया,  श्री विजय बहादुर, श्री विषम सिंह, श्री तरूण रावत, श्री रामसागर रावत, श्री आलोक वर्मा, श्री विनीत वर्धन सिंह, श्री शिव मोहन, श्री ब्रजेन्द्र वर्मा, श्री वेद प्रकाश त्रिपाठी, श्री ओंकारनाथ सिंह, श्री प्रमोद सिंह, श्री शिव पाण्डेय, श्री आसिम मुन्ना, डा0 शहजाद आलम, श्री अरशी रजा, श्री नसीम खान, श्री मेराज अहमद, श्री उबैद उल्ला नासिर, श्री अयूब सिद्दीकी, श्री सिकन्दर अली, श्री शमशाद आलम, श्री इरशाद अली, श्री एस0बी0 मिश्रा, श्री रंजन दीक्षित, श्री विनीत दीक्षित, श्रीमती ममता चैधरी, श्रीमती सुनीता रावत, श्रीमती सुशीला सोनकर, श्रीमती विभा त्रिपाठी, श्रीमती सरलेस रावत, श्रीमती सीमा चैधरी, श्रीमती सीमा भारती, श्रीमती माया चैबे, श्रीमती लक्ष्मी वर्मा, श्रीमती रफत फातिमा, श्री ओम प्रकाश सोनकर, श्री नरेन्द्र गौतम, श्री जयंत गौतम, श्री रामहरक रावत, श्री सुशील बाल्मीकि, दीप्ति सचान, श्री हीरालाल शास्त्री, श्री देवी दयाल, श्री संतोष भार्गव, श्री विनय गौतम, श्री फूलचन्द, श्री दीपू, श्री रूद्रसेन, श्री प्रेम सिंह, श्री संजय, श्री श्याम सुन्दर, श्री मोनू, श्री राजेश, श्री राजकुमार, श्री विजय सहित हजारों की संख्या में नेतागण एवं कार्यकर्ता शामिल होंगे।
ज्ञापन की प्रति संलग्न है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सरकारी स्तर पर महिला सशक्तिकरण के लिये मिलने वाले "महिला सशक्तिकरण अवार्ड" मे वाहिद चोहान मात्र वाहिद पुरुष। - वाहिद चोहान की शेक्षणिक जागृति के तहत बेटी पढाओ बेटी पढाओ का नारा पूर्ण रुप से क्षेत्र मे सफल माना जा रहा है।

                 ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हर साल आठ मार्च को विश्व भर मे महिलाओं के लिये अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया जाता है। लेकिन महिलाओं को लेकर इस तरह के मनाये जाने वाले अनगिनत समारोह को वास्तविकता का रुप दे दिया जाये तो निश्चित ही महिलाओं के हालात ओर अधिक बेहतरीन देखने को मिल सकते है। इसके विपरीत राजस्थान के सीकर के लाल व मुम्बई प्रवासी वाहिद चोहान ने महिलाओं का वास्तव मे सशक्तिकरण करने का बीड़ा उठाकर अपने जीवन भर का कमाया हुया सरमाया खर्च करके वो काम किया है जिसकी मिशाल दूसरी मिलना मुश्किल है।इसी काम के लिये राजस्थान सरकार ने वाहिद चोहान को महिला सशक्तिकरण अवार्ड से नवाजा है। बताते है कि इस तरह का अवार्ड पाने वाले एक मात्र पुरुष वाहिद चोहान ही है।                   करीब तीस साल पहले सीकर शहर के रहने वाले वाहिद नामक एक युवा जो बाल्यावस्था मे मुम्बई का रुख करके वहां उम्र चढने के साथ कड़ी मेहनत से भवन निर्माण के काम से अच्छा खासा धन कमाने के बाद ऐसों आराम की जिन्दगी जीने की बजाय उसने अपने आबाई शहर सीकर की बेटियों को आला तालीमयाफ्ता करके उनका जीवन खुसहाल बनाने की जीद लेक

डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के विरोध में एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन

  लखनऊ : डॉक्टर अब्दुल कलाम प्राथमिक विश्वविद्यालय एकेटीयू लखनऊ द्वारा कराई जा रही ऑफलाइन परीक्षा के  विरोध में  एनएसयूआई के राष्ट्रीय संयोजक आदित्य चौधरी ने सौपा ज्ञापन आदित्य चौधरी ने कहा कि   केाविड-19 महामारी के एक बार पुनः देश में पैर पसारने और उ0प्र0 में भी दस्तक तेजी से देने की खबरें लगातार चल रही हैं। आम जनता व छात्रों में कोरोना के प्रति डर पूरी तरह बना हुआ है। सरकार द्वारा तमाम उपाय किये जा रहे हैं किन्तु एकेटीयू लखनऊ का प्रशासन कोरोना महामारी को नजरअंदाज करते हुए छात्रों की आॅफ लाइन परीक्षा आयोजित कराने पर अमादा है। जिसके चलते भारी संख्या में छात्रों की जान पर आफत बनी हुई है। इन परीक्षाओं में शामिल होने के लिए देश भर से तमाम प्रदेशों के भी छात्र परीक्षा देने आयेंगे जिसमें कई राज्य ऐसे हैं जहां नये स्टेन की पुष्टि भी हो चुकी है और विभिन्न स्थानों लाॅकडाउन की स्थिति बन गयी है। ऐसे में एकेटीयू प्रशासन द्वारा आफ लाइन परीक्षा कराने का निर्णय पूरी तरह छात्रों के हितों के विरूद्ध है। भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन की मांग है कि इस निर्णय को तत्काल विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा वापस लि

राजस्थान मे गहलोत सरकार के खिलाफ मुस्लिम समुदाय की बढती नाराजगी अब चरम पर पहुंचती नजर आने लगी।

                   ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।              हालांकि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा शुरुआत से लेकर अबतक लगातार सरकारी स्तर पर लिये जा रहे फैसलो मे मुस्लिम समुदाय को हिस्सेदारी के नाम पर लगातार ढेंगा दिखाते आने के बावजूद कल जारी भारतीय प्रशासनिक व पुलिस सेवा के अलावा राजस्थान प्रशासनिक व पुलिस सेवा की जम्बोजेट तबादला सूची मे किसी भी स्तर के मुस्लिम अधिकारी को मेन स्टीम वाले पदो पर लगाने के बजाय तमाम बर्फ वाले माने जाने वाले पदो पर लगाने से समुदाय मे मुख्यमंत्री गहलोत व उनकी सरकार के खिलाफ शुरुआत से जारी नाराजगी बढते बढते अब चरम सीमा पर पहुंचती नजर आ रही है। फिर भी कांग्रेस नेताओं से बात करने पर उनका जवाब एक ही आ रहा है कि सामने आने वाले वाले उपचुनाव मे मतदान तो कांग्रेस उम्मीदवार के पक्ष मे करने के अलावा अन्य विकल्प भी समुदाय के पास नही है। तो सो प्याज व सो जुतो वाली कहावत हमेशा की तरह आगे भी कहावत समुदाय के तालूक से सही साबित होकर रहेगी। तो गहलोत फिर समुदाय की परवाह क्यो करे।               मुख्यमंत्री गहलोत के पूर्ववर्ती सरकार मे भरतपुर जिले के गोपालगढ मे मस्जिद मे नमाजियों क