सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संघ का विधान देश का संविधान नहीं हो सकता: अजय कुमार लल्लू


लखनऊ : आरक्षण बचाओ मार्च का आयोजन आज प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू  के नेतृत्व में परिवर्तन चैक से हजरतगंज स्थित बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर जी की प्रतिमा तक किया गया। आज के आरक्षण बचाओ मार्च में, ‘‘उत्तराखण्ड सरकार द्वारा 2019 में हाईकोर्ट में दायर की गयी रिट याचिका जिसमें हाईकोर्ट ने फैसला दिया था कि सार्वजनिक पदों पर नियुक्तियों या पदोन्नति में आरक्षण का दावा करने का कोई मौलिक अधिकार नहीं है आरक्षण प्रदान करने के लिए राज्य सरकार की ओर से कोई संवैधानिक कर्तव्य नहीं है जिसमें विगत 7 फरवरी 2020 को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा महेश कुमार बनाम उत्तराखण्ड राज्य के मामले में दिये गये निर्णय और भारतीय जनता पार्टी द्वारा न्यायालय के समक्ष दिये गये तर्क कि आरक्षण न तो मौलिक अधिकार है न ही संवैधानिक कर्तव्य’’ इसका कड़ा विरोध किया गया। जिसमंे हजारों की संख्या में कांग्रेस पदाधिकारी, कार्यकर्ता एवं वरिष्ठ नेतागण सम्मिलित रहे। मार्च में संविधान बचाओ-आरक्षण बचाओ, जय भीम-जय मंडल के नारे गूंजते रहे। कार्यक्रम के अन्त में महामहिम राज्यपाल जी के माध्यम से महामहिम राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा गया।
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री अजय कुमार लल्लू जी ने अम्बेडकर प्रतिमा पर धरने को सम्बोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में केन्द्र और राज्य की भाजपा सरकारें सामाजिक न्याय और आरक्षण की मूल भावना पर लगातार हमला कर रही है। विगत वर्ष अनु0जाति/जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में बदलाव की कोशिश की थी। उस समय पूरे देश में आरक्षण बचाओ आन्दोलन हुआ था और वर्तमान में उत्तराखण्ड सरकार द्वारा अनु0जाति/जनजाति वर्ग के लिए प्रमोशन में आरक्षण खत्म करवाने तथा उ0प्र0 में उ0प्र0 लोक सेवा आयोग द्वारा अनु0जाति/जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों को ओवरलैपिंग की सहूलियत केा खत्म करने की कोशिश की जा रही है। जिससे इन वर्गों के लाखों अभ्यर्थी प्रभावित होंगे। उ0प्र0 की भाजपा सरकार ने नियुक्तियों में आरक्षण का लगातार हनन किया है। भाजपा सरकार में दलित व पिछड़ों की सरकारी नौकरियों की संख्या 90 प्रतिशत कम हो गयी है यही नहीं दलित, पिछड़ा और आदिवासियों के लिए आरक्षित नौकरियों के बैकलाग को नहीं भरा जा रहा है। प्रि-मैट्रिक एससी/ओबीसी स्कालरशिप स्कीम व पोस्ट मैट्रिक एससी/ओबीसी स्कालरशिप स्कीम के बजट में भारी कटौती हुई है। एक तरफ सभी सरकारी संस्थानों में आउटसोर्सिंग पर नौकरियां दी जा
रही हैं दूसरी तरफ आरक्षण लागू नहीं किया जा रहा है, देश और प्रदेश की भाजपा सरकार इस मामले में चुप्पी मारकर बैठी है। कांग्रेस पार्टी को आरक्षण पर यह कुठाराघात बर्दाश्त नहीं है। बाबा साहब डा0 भीमराव अम्बेडकर और बी0पी0 मंडल ने दलित, पिछड़े, आदिवासियेां के लिए जो अधिकार दिए थे उन्हें बचाने के लिए कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक आन्दोलन करेगी।
आरक्षण बचाओ मार्च में प्रमुख रूप से अनु0जाति आयोग के पूर्व अध्यक्ष श्री पी0एल0 पुनिया सांसद, अ0भा0 कांग्रेस कमेटी के सचिव एवं प्रभारी उ0प्र0 श्री जुबेर खान, अनु0जाति विभाग के राष्टीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व सांसद श्री ब्रजलाल खाबरी, अनु0जाति विभाग के राष्टीय सचिव एवं उ0प्र0 प्रभारी श्री प्रदीप नरवाल, पूर्व विधायक श्री रामसजीवन निर्मल, पूर्व विधायक श्री राम जियावन, पूर्व विधायक बंशी पहाड़िया, पूर्व विधायक श्री श्यामकिशोर शुक्ल, पूर्व विधायक श्री अमिताभ अनिल दुबे, प्रदेश महासचिव एवं अनु0जाति के प्रभारी श्री आलोक प्रसाद पासी, महासचिव श्री मनोज यादव, श्री रमेश कुमार शुक्ल, श्री छोटेलाल चैरसिया, श्री संजय शर्मा, श्री गौरव चैधरी, श्री मुकेश सिंह चैहान, श्री प्रदीप कनौजिया, श्रीमती सिद्धिश्री, श्री के0के0 आनन्द, श्री मनोज पटेल, श्रीमती शमीना शफीक, श्रीमती ऊषा रानी कोरी, श्री तनुज पुनिया,  श्री विजय बहादुर, श्री विषम सिंह, श्री तरूण रावत, श्री रामसागर रावत, श्री आलोक वर्मा, श्री विनीत वर्धन सिंह, श्री शिव मोहन, श्री ब्रजेन्द्र वर्मा, श्री वेद प्रकाश त्रिपाठी, श्री ओंकारनाथ सिंह, श्री प्रमोद सिंह, श्री शिव पाण्डेय, श्री आसिम मुन्ना, डा0 शहजाद आलम, श्री अरशी रजा, श्री नसीम खान, श्री मेराज अहमद, श्री उबैद उल्ला नासिर, श्री अयूब सिद्दीकी, श्री सिकन्दर अली, श्री शमशाद आलम, श्री इरशाद अली, श्री एस0बी0 मिश्रा, श्री रंजन दीक्षित, श्री विनीत दीक्षित, श्रीमती ममता चैधरी, श्रीमती सुनीता रावत, श्रीमती सुशीला सोनकर, श्रीमती विभा त्रिपाठी, श्रीमती सरलेस रावत, श्रीमती सीमा चैधरी, श्रीमती सीमा भारती, श्रीमती माया चैबे, श्रीमती लक्ष्मी वर्मा, श्रीमती रफत फातिमा, श्री ओम प्रकाश सोनकर, श्री नरेन्द्र गौतम, श्री जयंत गौतम, श्री रामहरक रावत, श्री सुशील बाल्मीकि, दीप्ति सचान, श्री हीरालाल शास्त्री, श्री देवी दयाल, श्री संतोष भार्गव, श्री विनय गौतम, श्री फूलचन्द, श्री दीपू, श्री रूद्रसेन, श्री प्रेम सिंह, श्री संजय, श्री श्याम सुन्दर, श्री मोनू, श्री राजेश, श्री राजकुमार, श्री विजय सहित हजारों की संख्या में नेतागण एवं कार्यकर्ता शामिल होंगे।
ज्ञापन की प्रति संलग्न है।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

वक्फबोर्ड चैयरमैन डा.खानू की कोशिशों से अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये जमीन आवंटन का आदेश जारी।

         ।अशफाक कायमखानी। चूरु।राजस्थान।              राज्य सरकार द्वारा चूरु शहर स्थित अल्पसंख्यक छात्रावास के लिये बजट आवंटित होने के बावजूद जमीन नही होने के कारण निर्माण का मामला काफी दिनो से अटके रहने के बाद डा.खानू खान की कोशिशों से जमीन आवंटन का आदेश जारी होने से चारो तरफ खुशी का आलम देखा जा रहा है।            स्थानीय नगरपरिषद ने जमीन आवंटन का प्रस्ताव बनाकर राज्य सरकार को भेजकर जमीन आवंटन करने का अनुरोध किया था। लेकिन राज्य सरकार द्वारा कार्यवाही मे देरी होने पर स्थानीय लोगो ने धरने प्रदर्शन किया था। उक्त लोगो ने वक्फ बोर्ड चैयरमैन डा.खानू खान से परिषद के प्रस्ताव को मंजूर करवा कर आदेश जारी करने का अनुरोध किया था। डा.खानू खान ने तत्परता दिखाते हुये भागदौड़ करके सरकार से जमीन आवंटन का आदेश आज जारी करवाने पर क्षेत्रवासी उनका आभार व्यक्त कर रहे है।  

नूआ का मुस्लिम परिवार जिसमे एक दर्जन से अधिक अधिकारी बने। तो झाड़ोद का दूसरा परिवार जिसमे अधिकारियों की लम्बी कतार

              ।अशफाक कायमखानी। जयपुर।             राजस्थान मे खासतौर पर देहाती परिवेश मे रहकर फौज-पुलिस व अन्य सेवाओं मे रहने के अलावा खेती पर निर्भर मुस्लिम समुदाय की कायमखानी बिरादरी के झूंझुनू जिले के नूआ व नागौर जिले के झाड़ोद गावं के दो परिवारों मे बडी तादाद मे अधिकारी देकर वतन की खिदमत अंजाम दे रहे है।            नूआ गावं के मरहूम लियाकत अली व झाड़ोद के जस्टिस भंवरु खा के परिवार को लम्बे अर्शे से अधिकारियो की खान के तौर पर प्रदेश मे पहचाना जाता है। जस्टिस भंवरु खा स्वयं राजस्थान के निवासी के तौर पर पहले न्यायीक सेवा मे चयनित होने वाले मुस्लिम थे। जो बाद मे राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस पद से सेवानिवृत्त हुये। उनके दादा कप्तान महमदू खा रियासत काल मे केप्टन व पीता बक्सू खां पुलिस के आला अधिकारी से सेवानिवृत्त हुये। भंवरु के चाचा पुलिस अधिकारी सहित विभिन्न विभागों मे अधिकारी रहे। इनके भाई बहादुर खा व बख्तावर खान राजस्थान पुलिस सेवा के अधिकारी रहे है। जस्टिस भंवरु के पुत्र इकबाल खान व पूत्र वधु रश्मि वर्तमान मे भारतीय प्रशासनिक सेवा के IAS अधिकारी है।              इसी तरह नूआ गावं के मरह

पत्रकारिता क्षेत्र मे सीकर के युवा पत्रकारों का दैनिक भास्कर मे बढता दबदबा। - दैनिक भास्कर के राजस्थान प्रमुख सहित अनेक स्थानीय सम्पादक सीकर से तालूक रखते है।

                                         सीकर। ।अशफाक कायमखानी।  भारत मे स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता जगत मे लक्ष्मनगढ निवासी द्वारा अच्छा नाम कमाने वाले हाल दिल्ली निवासी अनिल चमड़िया सहित कुछ ऐसे पत्रकार क्षेत्र से रहे व है। जिनकी पत्रकारिता को सलाम किया जा सकता है। लेकिन पिछले कुछ दिनो मे सीकर के तीन युवा पत्रकारों ने भास्कर समुह मे काम करते हुये जो अपने क्षेत्र मे ऊंचाई पाई है।उस ऊंचाई ने सीकर का नाम ऊंचा कर दिया है।         इंदौर से प्रकाशित  दैनिक भास्कर के प्रमुख संस्करण के सम्पादक रहने के अलावा जयपुर सीटी भास्कर व शिमला मे भास्कर के सम्पादक रहे सीकर शहर निवासी मुकेश माथुर आजकल दैनिक भास्कर के जयपुर मे राजस्थान प्रमुख है।                 दैनिक भास्कर के सीकर दफ्तर मे पत्रकारिता करते हुये उनकी स्वच्छ व निष्पक्ष पत्रकारिता का लोहा मानते हुये जिले के सुरेंद्र चोधरी को भास्कर प्रबंधक ने उन्हें भीलवाड़ा संस्करण का सम्पादक बनाया था। जिन्होंने भीलवाड़ा जाकर पत्रकारिता को काफी बुलंदी पर पहुंचाया है।                 फतेहपुर तहसील के गावं से निकल कर सीकर शहर मे रहकर सुरेंद्र चोधरी के पत्रका